Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2023 · 1 min read

बंद मुट्ठी बंदही रहने दो

बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
अच्छा हैं दफन हैं वो सब राज
कमसे कम सुकून तो हैं आज
लोग कहते हैं कहने दो लोगो का क्या ?

क्या भरोसा किसीका कब धोखा दे
अपना समझे वही धोका देते हैं अक्सर
वो नासमझ हैं , उसे जीना नहीं आता
लोग कहते हैं कहने दो लोगो का क्या ?

दोस्त तो बेशक , कल रहे ना रहे
चलो अच्छा हैं उम्मीदपर हैं जिंदगी
टीकी हुई कल किसने देखा हैं
लोग कहते हैं कहने दो लोगो का क्या ?

पसीने की हर बून्द से भाग्य अपना जो लिखे
हिम्मत , मेहनत और लगन से बेशक
वही सुनहरे पल पाता हैं इतिहास गवाह हैं
लोग कहते हैं कहने दो लोगो का क्या ?

कल क्या होगा किसने हैं जाना अब तक
बस चलते हैं रहना मंजिल की तलाश में
थके ना दिल कभी , ना बिके जमीर
लोग कहते हैं कहने दो लोगो का क्या ?

Tag: Poem
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
"डगर"
Dr. Kishan tandon kranti
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
#महाभारत
#महाभारत
*Author प्रणय प्रभात*
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्रीत की चादर
प्रीत की चादर
Dr.Pratibha Prakash
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कैसे भूल सकता हूँ मैं वह
कैसे भूल सकता हूँ मैं वह
gurudeenverma198
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
Surinder blackpen
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
सत्य पर चलना बड़ा कठिन है
Udaya Narayan Singh
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
The jaurney of our life begins inside the depth of our mothe
Sakshi Tripathi
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...