Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2020 · 1 min read

बँटवारा

आज़ादी का हाथ थाम कर
आया बटँवारा इस देश में।
तहस नहस कर दिया सब कुछ
जिसने पूरे भारत देश में।
जो दोस्त थे कभी वो लड़ने लगे थे
भाई से भाई बिछड़ने लगे थे।
अचानक सब मज़हबी बनने लगे थे
इंसानियत को सब भूलने लगे थे।
क्या मंज़र रहा होगा उस शाम को
जब मार रहे होंगे लोग अपनी सन्तान को।
लोग भाग रहे होंगे इधर उधर
अपनी जान बचाने को।
और कुचल रहे होंगे शायद
अपनों की लाशों को।
ज़ख्म भरे नहीं है अब तक
उस दर्दनाक शाम के
जब बट गया था यह देश
एक ही दिन और रात में।
जब उजड़ गए होंगे लोग
अपने ही जहान से।
जब बिछड़ गए होंगे लोग
अपने ही परिवार से।
नहीं यकीन हो तो मेरा
पूछ लो किसी भी इंसान से
कि क्या हुआ था उस दिन
जब बट गया था यह देश
एक ही दिन और रात में।

– श्रीयांश गुप्ता

Language: Hindi
4 Likes · 520 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
"चाँद"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
प्राण प्रतिष्ठा
प्राण प्रतिष्ठा
Mahender Singh
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
इक क्षण
इक क्षण
Kavita Chouhan
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
💐प्रेम कौतुक-269💐
💐प्रेम कौतुक-269💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
#नज़्म / ■ दिल का रिश्ता
*Author प्रणय प्रभात*
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
शेखर सिंह
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...