Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

फौजी जवान

फौजी जवान रहता है जमाने से जुदा,
सपनों को और अपनों को कहता है अलविदा।
सीने में उसके रंग तिंरगे के सब भरे,
मेरे देश का है फौजी जो हिंदुस्तान पर फिदा।

सतीश सृजन

Language: Hindi
1 Like · 168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत
फितरत
Sukoon
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
संस्कारधर्मी न्याय तुला पर
Dr MusafiR BaithA
मैं रंग बन के बहारों में बिखर जाऊंगी
मैं रंग बन के बहारों में बिखर जाऊंगी
Shweta Soni
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
Dr Manju Saini
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
Rituraj shivem verma
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप जीवित इसलिए नही है की आपको एक दिन मरना है बल्कि आपको यह ज
आप जीवित इसलिए नही है की आपको एक दिन मरना है बल्कि आपको यह ज
Rj Anand Prajapati
अतिथि
अतिथि
surenderpal vaidya
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
सपनों में खो जाते अक्सर
सपनों में खो जाते अक्सर
Dr Archana Gupta
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
Shriyansh Gupta
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...