Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 2 min read

फोक्ट का तमाशा

यह रविवार था। वीणा के लिए सुखद सुहानी भोर का आनन्द लेने का दिन। घर में सब सो रहे थे। वीणा ने एक गहरी साँस ली और चाय बना कर इत्मीनान से बालकोनी में रखी चियर पर बैठ गई। पति और बच्चे दस बजे से पहले उठने वाले नहीं थे, तो नाश्ता बनाने के लिए उसके पास तीन घंटे थे ! इत्मीनान सुकून शांति से अखबार पढ़ते हुए, चिड़ियों का कलरव सुनते हुए, मनपसंद बिस्कुट को धीरे – धीरे कुतरते हुए चाय का एक एक सिप…… आह… ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है…!
अभी वीणा ने अपनी खूबसूरत सुबह के कुछ लम्हे ही बिताये थे कि सामने लॉन से उठता शोर उसे डिस्टर्ब करने लगा। वीणा ने उड़ती सी निगाह एकत्रित भीड़ पर डाली। सामने के फ्लैट में कुछ महीने पहले रहने आये स्वामी जी का रविवारीय प्रवचन और लोगों की भीड़ हर रविवार का कॉमन सीन बन चुकी थी। हर रविवार गुरु जी के अनुयायी आते और स्वामी जी अपने छोटे से फ्लैट से बाहर निकल लॉन में मजमा लगा कर बैठ जाते। भक्तजन उनके सामने पैसों का ढेर लगा देते और घण्टे भर के प्रवचन के बाद स्वामी जी एक कुशल नट के समान शब्दों की कलाबाजियां दिखा कर वाह वाही के लाखों रुपये समेटे अपने फ्लैट में घुस जाते। और एक हफ्ते तक सब शान्त।
पर आज कुछ अलग बात थी। स्वामी जी के प्रवचनों की कलाबाजियों की बजाय किसी औरत के चीखने-चिल्लाने की आवाज़ें आ रहीं थीं।
टिंग…..ट्रांग…
दरवाजे की घण्टी ने वीणा के विचारों की बनती बिगड़ती तस्वीर पर ठण्डा जल फैंक दिया, सारी तस्वीर धुल पुंछ गई।
वीणा जानती थी यह दूधवाले का टाइम है। रसोईघर से बर्तन उठा उसने जल्दी से दरवाज़ा खोला।
….राम राम…. बीबी जी…
राम….” वीणा को बोलने का मौका दिए बिना दूधवाले की शब्द रेल अनवरत चल रही थी….!
बीबी जी आज तो कमाल हो गया! सामने वाले बाबा जी का तो आज भांडा ही फूट गया… देखो तो… बड़ा बाबा बना फिरता था…. पडोस की लड़की को लेकर भागा हुआ था और वो भी नाबालिग! आज बीवी ने आकर खूब पीटा बाबा को। लोगों के चढ़ाए पैसे भी ले गई… लाख से कम तो क्या ही होंगे। बीवी के भाई भी थे साथ में, बाबा के घर का सामान भी ले गए। भक्तों के दिए लैपटॉप, टीवी सब। ऊपर से पुलिस बुला कर जेल भी करवा दी बाबा को, नाबालिग को भगाने के आरोप में…. हंह हंह हंह….
दूधवाला चटखारे लेकर कहानी बता चला गया।
वीणा सामने खड़े लोगों को देख रही थी जो धर्म के नाम पर लुट-पिट कर आज देखो रहे थे… फोक्ट का तमाशा…!
© डॉ प्रिया सूफ़ी

Language: Hindi
3 Comments · 591 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Priya Sufi
View all
You may also like:
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
नव बर्ष 2023 काआगाज
नव बर्ष 2023 काआगाज
Dr. Girish Chandra Agarwal
मिले तो हम उनसे पहली बार
मिले तो हम उनसे पहली बार
DrLakshman Jha Parimal
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
राम और सलमान खान / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
मायूस इस क़दर
मायूस इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
🍂तेरी याद आए🍂
🍂तेरी याद आए🍂
Dr Manju Saini
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
Dr. Narendra Valmiki
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
बारिश
बारिश
Saraswati Bajpai
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
झूठ
झूठ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
एक ठंडी हवा का झोंका है बेटी: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
रह जाता सब कुछ धरा ,मरने के फिर बाद(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाप बना पानी सागर से
भाप बना पानी सागर से
AJAY AMITABH SUMAN
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
*Author प्रणय प्रभात*
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
Loading...