Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 2 min read

फोक्ट का तमाशा

यह रविवार था। वीणा के लिए सुखद सुहानी भोर का आनन्द लेने का दिन। घर में सब सो रहे थे। वीणा ने एक गहरी साँस ली और चाय बना कर इत्मीनान से बालकोनी में रखी चियर पर बैठ गई। पति और बच्चे दस बजे से पहले उठने वाले नहीं थे, तो नाश्ता बनाने के लिए उसके पास तीन घंटे थे ! इत्मीनान सुकून शांति से अखबार पढ़ते हुए, चिड़ियों का कलरव सुनते हुए, मनपसंद बिस्कुट को धीरे – धीरे कुतरते हुए चाय का एक एक सिप…… आह… ज़िन्दगी कितनी खूबसूरत है…!
अभी वीणा ने अपनी खूबसूरत सुबह के कुछ लम्हे ही बिताये थे कि सामने लॉन से उठता शोर उसे डिस्टर्ब करने लगा। वीणा ने उड़ती सी निगाह एकत्रित भीड़ पर डाली। सामने के फ्लैट में कुछ महीने पहले रहने आये स्वामी जी का रविवारीय प्रवचन और लोगों की भीड़ हर रविवार का कॉमन सीन बन चुकी थी। हर रविवार गुरु जी के अनुयायी आते और स्वामी जी अपने छोटे से फ्लैट से बाहर निकल लॉन में मजमा लगा कर बैठ जाते। भक्तजन उनके सामने पैसों का ढेर लगा देते और घण्टे भर के प्रवचन के बाद स्वामी जी एक कुशल नट के समान शब्दों की कलाबाजियां दिखा कर वाह वाही के लाखों रुपये समेटे अपने फ्लैट में घुस जाते। और एक हफ्ते तक सब शान्त।
पर आज कुछ अलग बात थी। स्वामी जी के प्रवचनों की कलाबाजियों की बजाय किसी औरत के चीखने-चिल्लाने की आवाज़ें आ रहीं थीं।
टिंग…..ट्रांग…
दरवाजे की घण्टी ने वीणा के विचारों की बनती बिगड़ती तस्वीर पर ठण्डा जल फैंक दिया, सारी तस्वीर धुल पुंछ गई।
वीणा जानती थी यह दूधवाले का टाइम है। रसोईघर से बर्तन उठा उसने जल्दी से दरवाज़ा खोला।
….राम राम…. बीबी जी…
राम….” वीणा को बोलने का मौका दिए बिना दूधवाले की शब्द रेल अनवरत चल रही थी….!
बीबी जी आज तो कमाल हो गया! सामने वाले बाबा जी का तो आज भांडा ही फूट गया… देखो तो… बड़ा बाबा बना फिरता था…. पडोस की लड़की को लेकर भागा हुआ था और वो भी नाबालिग! आज बीवी ने आकर खूब पीटा बाबा को। लोगों के चढ़ाए पैसे भी ले गई… लाख से कम तो क्या ही होंगे। बीवी के भाई भी थे साथ में, बाबा के घर का सामान भी ले गए। भक्तों के दिए लैपटॉप, टीवी सब। ऊपर से पुलिस बुला कर जेल भी करवा दी बाबा को, नाबालिग को भगाने के आरोप में…. हंह हंह हंह….
दूधवाला चटखारे लेकर कहानी बता चला गया।
वीणा सामने खड़े लोगों को देख रही थी जो धर्म के नाम पर लुट-पिट कर आज देखो रहे थे… फोक्ट का तमाशा…!
© डॉ प्रिया सूफ़ी

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
3 Comments · 359 Views
You may also like:
प्यार
Satish Arya 6800
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
किताब के पन्नों पर।
Taj Mohammad
एक गंभीर समस्या भ्रष्टाचारी काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
मुहब्बत का मसीहा
Shekhar Chandra Mitra
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
यह जिन्दगी क्या चाहती है
Anamika Singh
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
ये कैसी तडपन है, ये कैसी प्यास है
Ram Krishan Rastogi
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
■ त्वरित टिप्पणी / बेपरवाह ई-मीडिया
*प्रणय प्रभात*
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
श्री रामनामी दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुबारक हो जन्मदिवस
मानक लाल"मनु"
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
Loading...