Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 1 min read

फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,

फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
एक बार मानव जनम लेहे के बाद दोबारा नई मिलय।
जिनगी म हजार संगवारी मिलही,
मगर आपमन जैसे संगवारी संग jmp कॉलेज म पढ़े ला दोबारा नई मिलय ।।
Good morning

कृष्ण कुमार अनंत

1 Like · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
#झांसों_से_बचें
#झांसों_से_बचें
*Author प्रणय प्रभात*
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कर्मयोगी
कर्मयोगी
Aman Kumar Holy
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
मरहटा छंद
मरहटा छंद
Subhash Singhai
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
हृदय परिवर्तन जो 'बुद्ध' ने किया ..।
Buddha Prakash
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
अपनी काविश से जो मंजिल को पाने लगते हैं वो खारज़ार ही गुलशन बनाने लगते हैं। ❤️ जिन्हे भी फिक्र नहीं है अवामी मसले की। शोर संसद में वही तो मचाने लगते हैं।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
You're going to realize one day :
You're going to realize one day :
पूर्वार्थ
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
3272.*पूर्णिका*
3272.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
एक ऐसा दृश्य जो दिल को दर्द से भर दे और आंखों को आंसुओं से।
Rekha khichi
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
"नींद का देवता"
Dr. Kishan tandon kranti
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
*नारी के सोलह श्रृंगार*
*नारी के सोलह श्रृंगार*
Dr. Vaishali Verma
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐अज्ञात के प्रति-117💐
💐अज्ञात के प्रति-117💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
Loading...