Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 31, 2016 · 1 min read

फूलों से जरा बचकर रहना

मिल जाते हैं रहम परायों के,
अपनों से जरा बचकर रहना
भर जाते हैं जख्म पत्थरों के
फूलों से जरा बचकर रहना
*********************
कपिल कुमार
31/07/2016

1 Comment · 213 Views
You may also like:
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
चाँद और चाँदनी का मिलन
अनामिका सिंह
Security Guard
Buddha Prakash
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
✍️दो और दो पाँच✍️
"अशांत" शेखर
मंदिर
जगदीश लववंशी
पिता
Madhu Sethi
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
मां
Dr. Rajeev Jain
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
#15_जून
Ravi Prakash
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बेवफ़ा मोहब्बत✍️
"अशांत" शेखर
बचपन
अनामिका सिंह
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
✍️मोहब्बत की राह✍️
"अशांत" शेखर
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...