Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

फूलों की है टोकरी,

फूलों की है टोकरी,
ढूँढें सभी गुलाब ।
रिश्तों में हर आदमी,
चाहे बनें नवाब ॥

3 Likes · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
अब आदमी के जाने कितने रंग हो गए।
सत्य कुमार प्रेमी
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
कितना तन्हा
कितना तन्हा
Dr fauzia Naseem shad
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
Vishal babu (vishu)
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
स्वदेशी के नाम पर
स्वदेशी के नाम पर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
खाली सूई का कोई मोल नहीं 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
'तड़प'
'तड़प'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
देखिए
देखिए "औरत चाहना" और "औरत को चाहना"
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
2439.पूर्णिका
2439.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
"नजीर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...