Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author
Jul 6, 2021 · 1 min read

फूलों की वर्षा

दिल बना मजबूत लोहा,ठोकरें खाकर जनाब।
अब घनों के वार भी फूलों की वर्षा से लगें।
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

पं बृजेश कुमार नायक

● उक्त पंक्तियों को मेरी कृति/काव्यसंग्रह “पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाएं” के द्वितीय संस्करण में भी पढ़ा जा सकता है।

●पं बृजेश कुमार नायक की चुनिंदा रचनाए कृति का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

3 Likes · 2 Comments · 479 Views
You may also like:
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H. Amin
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
"अशांत" शेखर
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr. Alpa H. Amin
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
आपातकाल
Shriyansh Gupta
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
मृत्यु
Anamika Singh
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
न्याय
Vijaykumar Gundal
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...