Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar

मैं पहले की तरह फिर से तन्हा हो गया यारो
सुबह सुबह मेरा उनसे झगड़ा हो गया यारो

घटा के बिन नहीं मुमकिन है ये बरसात कैसे हो
हमारे बीच मुहब्बत की कोई शुरुआत कैसे हो

ये दिल उम्मीद का दामन क्यों ऐसे छोड़ देती है
वो मुझको देख के मुखड़ा क्यों ऐसे मोड़ लेती हैं

मिलेगा क्या भला उनको मुझे ऐसे सता करके
बुलाती हैं मुझे खाने पे बर्तन को बजा करके

की थी एक दुआ जो जाके अब वो रंग लाई है
सुबह सुबह वो लेकर चाय मेरे पास आई हैं

~विनीत सिंह

Language: Hindi
1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
जानो धन चंचल महा, सही चंचला नाम(कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ असलियत
■ असलियत
*Author प्रणय प्रभात*
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कलियुग
कलियुग
Prakash Chandra
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
"बेजुबान"
Dr. Kishan tandon kranti
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शराब का सहारा कर लेंगे
शराब का सहारा कर लेंगे
शेखर सिंह
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
डर  ....
डर ....
sushil sarna
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
Loading...