Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,

फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
भ्रष्टाचारियों को अपनों में मिला लिया !
खुद अछूते आप नहीं रहे परिवारवाद से ,
तुष्टीकरण से लोगों को आहात कर दिया !!@ परिमल

389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज
DrLakshman Jha Parimal
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
क्षणिकाएँ. .
क्षणिकाएँ. .
sushil sarna
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#मेरा_जीवन-
#मेरा_जीवन-
*Author प्रणय प्रभात*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
Ravi Prakash
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
तुम
तुम
Punam Pande
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
सिर्फ औरतों के लिए
सिर्फ औरतों के लिए
Dr. Kishan tandon kranti
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मदर्स डे
मदर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
क्या मिला है मुझको, अहम जो मैंने किया
gurudeenverma198
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3305.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...