Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।

फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
हम अभी उस हौसले तक नही पहुँचे |

29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सत्य  विजय  का पर्व मनाया*
*सत्य विजय का पर्व मनाया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरे प्यार के राहों के पथ में
तेरे प्यार के राहों के पथ में
singh kunwar sarvendra vikram
एक तरफ
एक तरफ
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
"हास्य व्यंग्य"
Radhakishan R. Mundhra
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
*पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर, रामपुर*
*पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर, रामपुर*
Ravi Prakash
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
#प्रणय_गीत:-
#प्रणय_गीत:-
*प्रणय प्रभात*
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
नशा
नशा
Mamta Rani
शून्य ....
शून्य ....
sushil sarna
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
" सूरज "
Dr. Kishan tandon kranti
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब जब जिंदगी में  अंधेरे आते हैं,
जब जब जिंदगी में अंधेरे आते हैं,
Dr.S.P. Gautam
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
ललकार भारद्वाज
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
आप वही बोले जो आप बोलना चाहते है, क्योंकि लोग वही सुनेंगे जो
Ravikesh Jha
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"" *रिश्ते* ""
सुनीलानंद महंत
सागर की लहरों
सागर की लहरों
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
Loading...