Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

” फिर आ गए चुनाव”

फिर आयी गति में स्वयं,,आरक्षण की नाव!
निश्चित भारत वर्ष मे..फिर आ गये चुनाव!!

बिरयानी बँटने लगी,बँटने लगा पुलाव !
शायद मेरे देश में, फिर आ गए चुनाव !!

खूब दिए हैं आज तक, महंगाई ने घाव !
इसे बढाने के लिए ,फिर आ गए चुनाव !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
गले की फांस
गले की फांस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम.....
प्रेम.....
शेखर सिंह
*जग से चले गए जो जाने, लोग कहॉं रहते हैं (गीत)*
*जग से चले गए जो जाने, लोग कहॉं रहते हैं (गीत)*
Ravi Prakash
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
नशा मुक्त अभियान
नशा मुक्त अभियान
Kumud Srivastava
झूठा प्यार।
झूठा प्यार।
Sonit Parjapati
है कहीं धूप तो  फिर  कही  छांव  है
है कहीं धूप तो फिर कही छांव है
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
पिता का यूं चले जाना,
पिता का यूं चले जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कितनी आवाज़ दी
कितनी आवाज़ दी
Dr fauzia Naseem shad
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...