Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2016 · 1 min read

फिर आओ गिरधारी

घोर तमस छाया है देखो,
पाप-ताप लाचारी का l
चहुँ ओर है झंडा ऊँचा,
लोभी-अत्याचारी का l

आहत है जग, मानवता का,
एक नया युग लाने को l
फिर से रस्ता देख रहा है,
गोवर्धन-गिरधारी का l

– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ.प्र.)
मो. : 8941912642

Language: Hindi
1 Comment · 778 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
जो गुरूर में है उसको गुरुर में ही रहने दो
कवि दीपक बवेजा
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
*सादगी उपहार था (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सादगी उपहार था (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
■ लघु-कविता-
■ लघु-कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
अच्छे किरदार की
अच्छे किरदार की
Dr fauzia Naseem shad
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
आ जाओ न प्रिय प्रवास तुम
Shiva Awasthi
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
Loading...