Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

पतझड़ की फितरत में
उसकी असंख्य आवृत्तियां
लेकिन बसंत का आना
जैसे अवरूद्ध है
और जीवन अरण्य
रिक्तता का पर्याय बन रहा है

मैं तुम्हारे दुर्निवार मोह में
अपने ही अक्ष पर झुकी हुई
परिक्रमण करती रहती हूं निरंतर
लेकिन कोई ऋतु नहीं बदलती

आखिर वो तुम ही हो
जिसके स्पर्श से हो सकता था
देह के शिशिर का अवसान
और प्रस्फुटित हो सकती थी
सौम्य सी कोई कोंपल

मन के अंतर्द्वंद्व
और विकल अनुबंधों से
जब मुक्त हो जाऊं
तब तुम आ जाना
जीवन को पुनर्परिभाषित करने
किसी अंतिम सुख की तरह

अनुजीत इकबाल
लखनऊ

3 Likes · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
(11) मैं प्रपात महा जल का !
(11) मैं प्रपात महा जल का !
Kishore Nigam
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चारु
चारु
NEW UPDATE
3106.*पूर्णिका*
3106.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
Jay prakash
Jay prakash
Jay Dewangan
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■
■ "हेल" में जाएं या "वेल" में। उनकी मर्ज़ी।।
*प्रणय प्रभात*
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन में...
जीवन में...
ओंकार मिश्र
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*मतदाता ने दे दिया, टूटा जन-आदेश (कुंडलिया)*
*मतदाता ने दे दिया, टूटा जन-आदेश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
"साजिश"
Dr. Kishan tandon kranti
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
तुम बस ज़रूरत ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...