Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

फ़ासले

लहरों की तरह आगे हम बढ़ते रहे,
दायरे हमारे और भी सिमटते रहे,
कभी तुम आगे निकल गए कभी हम,
फासले यूं ही हमारे बढ़ते रहे
आज जब शिद्दत से मेरे हमसफ़र !
तुम्हारी मुहब्बत का अहसास हुआ ,
तो हम बेबस से खड़े रह गए
और रिश्ते रेत की तरह हाथ से फिसलते गए।

Language: Hindi
1 Comment · 622 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
मर्द रहा
मर्द रहा
Kunal Kanth
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कद्र और कीमत देना मां बाप के संघर्ष हो,
कद्र और कीमत देना मां बाप के संघर्ष हो,
पूर्वार्थ
जिंदगी गुज़र जाती हैं
जिंदगी गुज़र जाती हैं
Neeraj Agarwal
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
कॉटेज हाउस
कॉटेज हाउस
Otteri Selvakumar
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3514.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
मुक्तक...छंद-रूपमाला/मदन
डॉ.सीमा अग्रवाल
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
*प्रणय प्रभात*
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
अड़चन
अड़चन
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
जब किनारे दिखाई देते हैं !
जब किनारे दिखाई देते हैं !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
Loading...