Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

फ़ासला दरमियान

दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
फासला दर्मियान रक्खेंगे ॥

आप की सोच मुखल्लिफ हम से।
हम भी इस का ध्यान रक्खेंगे ।।

वार तुम पर तो कर नहीं सकते ।
ख़ाली अपनी मियान रक्खेंगे ।।

दोस्तों की कमी नहीं होगी।
जितनी मीठी ज़बान रक्खेंगे ।।

कर के ख़ामोशियों में गुम खुद को ।
दिल का हम इम्तिहान रक्खेंगे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
7 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
■ जम्हूरियत के जमूरे...
■ जम्हूरियत के जमूरे...
*प्रणय प्रभात*
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
"इन्तेहा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
बावला
बावला
Ajay Mishra
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
*मॉंगता सबसे क्षमा, रिपु-वृत्ति का अवसान हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तलाक
तलाक
Shashi Mahajan
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
वो बचपन था
वो बचपन था
Satish Srijan
2527.पूर्णिका
2527.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
रुपया-पैसा -प्यासा के कुंडलियां (Vijay Kumar Pandey pyasa'
Vijay kumar Pandey
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#खुलीबात
#खुलीबात
DrLakshman Jha Parimal
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
नेताम आर सी
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
ज़िदादिली
ज़िदादिली
Shyam Sundar Subramanian
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
🙂
🙂
Sukoon
Loading...