Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष

गाॅंव में यह खबर तुरत बिजली की तरह फैल गई – मलेटरी ने बहरा चेथरु को गिरफ्फ कर लिया है और लोबिनलाल के कुऍं से बाल्टी खोलकर ले गए हैं।
– – – – – – – –
“हुजूर, यह सुराजी बालदेव गोप है। दो साल जेहल खटकर आया है; इस गाॅंव का नहीं,चन्ननपट्टी का है। यहाॅं मौसी के यहाॅं आया है। खध्धड़ पहनता है, जैहिन्न बोलता है।

हिन्दी साहित्य के आंचलिक कथा सम्राट फणीश्वरनाथ रेणु को जयन्ती के अवसर पर शत् शत् नमन एवं विनम्र श्रद्धाॅंजलि।
अपने उपन्यास मैला आंचल, परती परिकथा, जुलूस, कितने चौराहे, पलटू बाबू रोड एवं कथा संग्रह आदिम रात्रि की महक, ठुमरी, अग्निखोर और कहानी मारे गये गुलफाम, संवदिया, ठेस, पंचलाईट, लाल पान की बेगम इत्यादि में आंचलिक जीवन के हर धुन, हर गंध, हर लय, हर ताल, हर सुर, हर सुंदरता, हर कुरुपता को शब्दों में बांधने का रेणु की कोशीष का कोई पर्याय नहीं है। सबसे बड़ी बात है कि जिन पात्रों को कहानी में पिरो कर इसने विश्व हिन्दी साहित्य में अपने लिए एक अलग विशिष्ट पहचान बनाया है, वह पात्र आपको आज भी खास कर जब आप पूर्णिया से फारबिसगंज तक की बस यात्रा और रेल यात्रा खिड़की वाली सीट पर बैठ कर करें तो कहीं गाड़ीवान,कहीं खेत में काम करता हुआ किसान,मजदूर,किसी चौक पर चाय की दुकान में गप्प लड़ाते और बात बात पर बहस करने के क्रम में इस्स… करते लोग,नाच मंडली के लोग,संवदिया, कलाकार, जुलूस में शामिल लोग इत्यादि के रुप में सहज रुप से देखने को मिल जाएगा। 🙏

Language: Hindi
Tag: लेख
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समझ ना पाया अरमान पिता के कद्र न की जज़्बातों की
समझ ना पाया अरमान पिता के कद्र न की जज़्बातों की
VINOD CHAUHAN
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुनो मोहतरमा..!!
सुनो मोहतरमा..!!
Surya Barman
23/197. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/197. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
झूला....
झूला....
Harminder Kaur
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
*प्रणय प्रभात*
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
देखिए प्रेम रह जाता है
देखिए प्रेम रह जाता है
शेखर सिंह
Stay grounded
Stay grounded
Bidyadhar Mantry
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
आश्रम
आश्रम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
*गोलू चिड़िया और पिंकी (बाल कहानी)*
*गोलू चिड़िया और पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
पुरानी खंडहरों के वो नए लिबास अब रात भर जगाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
Loading...