Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*प्रेरक*

हर ग़म में जो मुस्काते हैं
खुशियों के नगमे गाते हैं
तोड़े मन के सारे बंधन
इक नया सवेरा पाते हैं

319 Views
You may also like:
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
Loading...