Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 21, 2022 · 1 min read

प्रेयसी पुनीता

जब पास तुम ना होती हो तो
मैं क्या से क्या हो जाता हूँ,
भाव शून्य के साये में
कुछ यूँ सा मर जाता हूँl

कभी लाड आता बच्चों पे
कभी प्रेम रति पे आता है,
कहां कहां भावों में भटकता
यूँ पागल सा हो जाता हूँ

निश काली छा जाती है
मैं घबरा सा जाता हूँ,
तन्द्रा तज निशचर बनके
कुछ यूंही लिख जाता हूँl

भविष्य ढूंढ़ते रहता हूँ
आजकल दीवारों में,
नक्शा बनता हर दिन है
कुछ पानी के फव्वारों मेंl

सुख-साधन नीरस हो जाते
और मैं बोगस हो जाता हूँ,
शब्द नहीं कैसे बतलाऊँ
मैं क्या से क्या हो जाता हूँl

गौर किया होगा तुमने
मैं कुछ उल्टा हो जाता हूँ,
प्रत्यक्ष प्रेम कटौती कर
अप्रत्यक्ष कवि बन जाता हूँl

फिर भी मानो मेरे भावों को
जो सब कुछ कह जाती है,
तुम फूल पुनीता जैसी हो
मैं मुरझा नीरस हो जाता हूँl

शब्द संकुचित भावों का है
मैं कुछ भी कह जाता हूँ,
उत्तर नहीं हैं इस प्रश्न का
मैं ऐसा क्यों हो जाता हूँl

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

👉 Written by Mahendra Kumar Rai
👉 mahendrarai0999@gmail.com
👉 9935880999

2 Likes · 2 Comments · 141 Views
You may also like:
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
धरती अंवर एक हो गए, प्रेम पगे सावन में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
Anamika Singh
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️आझादी की किंमत✍️
'अशांत' शेखर
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
'अशांत' शेखर
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आशाओं की बस्ती
सूर्यकांत द्विवेदी
💐बोधाद्वैते एकता भवति प्रेमाद्वैते अभिन्नता भवति च💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी छवि
Anamika Singh
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राफेल विमान
jaswant Lakhara
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...