Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

प्रेम……

प्रेम

प्रेम का पाठ सारी दुनिया पढ़ाये
खुद ना इसका सार समझ पाये
बन ज्ञानी सब देते सीख दूजे को
खुद बैठे ह्रदय में नफरत छिपाये !!
!
प्रेम कोई प्रसाद नहीं, बिन तप मिल जाये
इसको पाने के लिए जीवन कम पड़ जाये
ये तो साधना मीरा, रहीम और सूरदास की
सच्चे ह्रदय से जप करे विष अमृत बन जाये !!
!
!
!
निवातियाँ डी. के.

1 Comment · 244 Views
You may also like:
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
मेरे पापा
Anamika Singh
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
तीन किताबें
Buddha Prakash
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
Loading...