Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

प्रेम

#दिनांक:-18/3/2024
#शीर्षक:- प्रेम

एक दस्तूर चला आ रहा है ,
दिल शीशे सा हर रोज तोड़ा जा रहा है,
कम नहीं होने का नाम है मुहब्बत ,
एक मरता,
दस जिन्दा हो रहा है,
उम्मीद की बारीक धागे से,
बंध जाता है हर कोई ,
एक अजीज ना मिला तो क्या,
दूसरा आजमाता है हर कोई,
नेह के मेह में मदहोश है दुनिया,
प्रेम सार्वजनिक राह है,
इस पर चलना चाहता है हर कोई ,
प्रेम के महासागर में एक बार,
डूबता है हर कोई ,
भले वादा झूठा हो,
पर निभाता है हर कोई ,
प्यार इंसान के खून का कतरा है,
जहाँ-जहाँ गिरता है,
रक्त बीज सा,
नया पौधा बन जाता है ,
कोई किनारे में लटक जाता है ,
तो कोई रूह में उतर जाता है ,
किसी की कामयाब होती है मुहब्बत ,
तो किसी की बीच सफर में,
बिखर जाता है ,
कोई भूल कर नयी जिन्दगी बसा लेता है ,
तो कोई ताउम्र इंतज़ार करता है….|
बस प्रेम का।

रचना मौलिक, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है|

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त जब बदलता है
वक्त जब बदलता है
Surinder blackpen
आलोचना के द्वार
आलोचना के द्वार
Suryakant Dwivedi
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
मोहब्बत-ए-सितम
मोहब्बत-ए-सितम
Neeraj Mishra " नीर "
अधूरी कहानी (कविता)
अधूरी कहानी (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश हो जाना।
सत्य कुमार प्रेमी
एक प्रार्थना
एक प्रार्थना
Bindesh kumar jha
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Stop cheating on your future with your past.
Stop cheating on your future with your past.
पूर्वार्थ
"उड़ान"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
ट्रेन दुर्घटना
ट्रेन दुर्घटना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
■ ज्वलंत सवाल
■ ज्वलंत सवाल
*प्रणय प्रभात*
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम तो मतदान करेंगे...!
हम तो मतदान करेंगे...!
मनोज कर्ण
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
जीवन
जीवन
Neeraj Agarwal
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
"इन्तेहा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...