Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2021 · 1 min read

प्रेम सुधा

आधार छंद:-किरीट सवैया

211 211 211 211 211 211 211 211
प्रेम सुधा रसना जिसके उर में बहती रहती सरिता सम।
नित्य निरंतर निर्मल पावन वो रहता मिटता उर का तम।
बाहर सुंदरता दिखती तब प्रेम सुगंधित है मन भीतर –
कंटक कानन में हँसता रहता रखता न कभी मन में गम ।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 534 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Disagreement
Disagreement
AJAY AMITABH SUMAN
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/97.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
// पिता एक महान नायक //
// पिता एक महान नायक //
Surya Barman
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
Loading...