Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2020 · 1 min read

प्रेम सुखद एहसास।

जीवन की बुनियाद है, प्रेम सुखद एहसास
प्रेम मधुर रस, रंग है , उड़ता हुआ सुवास।

प्रेम ह्रदय निर्मल करे, कलुष मिटे, संताप
सुख-सरिता कलकल बहे,बिन माला,बिन जाप।

प्रेम मलय, शीतल पवन, घनी विटप की छाँव
मृदुल राग, छमछम ध्वनित, जैसे घुँघरू पाँव।

सृष्टि प्रेम – अभिसिक्त है, यही जगत् आधार
बिन धागा, बिन डोर के, बँधा हुआ संसार।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 550 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3073.*पूर्णिका*
3073.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
खालीपन
खालीपन
MEENU
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-534💐
💐प्रेम कौतुक-534💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Humanism : A Philosophy Celebrating Human Dignity
Harekrishna Sahu
डर - कहानी
डर - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
जीवन बेहतर बनाए
जीवन बेहतर बनाए
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां
मां
Ankita Patel
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
Loading...