Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम विवाह करने वालों को सलाह

प्रेम विवाह करने वालों को सलाह

रहना अटल विचार से अपने,
यह परिणय अवसाद हरे।
तुम दोनों में प्यार हो ऐसा,
घर समाज तुम्हें याद करे।

निज इच्छा से संगी खोजा,
जीवन साथी माना है।
सुख हो दुख हो साथ निभाना,
जब विवाह की ठाना है।

प्रेम विवाह प्रतीक प्रेम का,
जीवन भर संग संग चलना।
प्रेम पथिक बन चले प्रणय पथ,
परिणय ग्रन्थि को न मलना।

सदैव सहज अमिट छवि रखना,
प्रभु का रहना आभारी।
प्रेम विवाह के सब जोड़ों को,
परिणय हो मंगलकारी।

Language: Hindi
288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
ग़ज़ल (चलो आ गयी हूँ मैं तुम को मनाने)
ग़ज़ल (चलो आ गयी हूँ मैं तुम को मनाने)
डॉक्टर रागिनी
सोच
सोच
Sûrëkhâ
"सियासत बाज"
Dr. Kishan tandon kranti
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
बच्चों के मन भाता तोता (बाल कविता)
Ravi Prakash
प्रेम की नाव
प्रेम की नाव
Dr.Priya Soni Khare
Give it time. The reality is we all want to see results inst
Give it time. The reality is we all want to see results inst
पूर्वार्थ
समय
समय
Neeraj Agarwal
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
■ हाय राम!!
■ हाय राम!!
*प्रणय प्रभात*
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/95.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिर सुखद संसार होगा...
फिर सुखद संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
हकीकत की जमीं पर हूँ
हकीकत की जमीं पर हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...