Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2024 · 1 min read

प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,

प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
सच्चा प्रेम वही होता है जो रघुनंदन को अपना ले।

1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
जो भी मिलता है उससे हम
जो भी मिलता है उससे हम
Shweta Soni
इश्क़ किया नहीं जाता
इश्क़ किया नहीं जाता
Surinder blackpen
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
अलविदा नहीं
अलविदा नहीं
Pratibha Pandey
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
Monika Arora
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
जबकि तड़पता हूँ मैं रातभर
gurudeenverma198
3465🌷 *पूर्णिका* 🌷
3465🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
ग़ज़ल/नज़्म: एक तेरे ख़्वाब में ही तो हमने हजारों ख़्वाब पाले हैं
अनिल कुमार
Behaviour of your relatives..
Behaviour of your relatives..
Suryash Gupta
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
मोदी का अर्थ महंगाई है ।
मोदी का अर्थ महंगाई है ।
Rj Anand Prajapati
मुझे ना पसंद है*
मुझे ना पसंद है*
Madhu Shah
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
राजस्थान
राजस्थान
Anil chobisa
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
चंद आंसूओं से भी रौशन होती हैं ये सारी जमीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गुज़रा है वक्त लेकिन
गुज़रा है वक्त लेकिन
Dr fauzia Naseem shad
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
Ravi Prakash
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
Mukesh Kumar Sonkar
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...