Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2021 · 1 min read

प्रेम पर्व आया सखी

प्रेम पर्व आया सखी, मन में उठे तरंग ।
छलक रहा है सोम रस, मादकता के संग।। १

अंग- अंग को तर रहा, मदहोशी का रंग।
पोर पोर ज्वाला भरा, मृग तृष्णा के संग।। २

प्रणय पिपासा कामना, फड़क रहा है अंग।
भाव भंगिमाएँ सरस, मोहित हुए अनंग।। ३

नयनों में मदिरा भरा, अंतर प्रणय तरंग।
ढाई आखर प्रेम में, अमिट सत्य का रंग।। ४
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Likes · 3 Comments · 192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
बिहार में डॉ अम्बेडकर का आगमन : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
शुभ रात्रि मित्रों
शुभ रात्रि मित्रों
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
कितने चेहरे मुझे उदास दिखे
कितने चेहरे मुझे उदास दिखे
Shweta Soni
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
पर दारू तुम ना छोड़े
पर दारू तुम ना छोड़े
Mukesh Srivastava
*सुख या खुशी*
*सुख या खुशी*
Shashi kala vyas
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
पाखंड
पाखंड
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
मची हुई संसार में,न्यू ईयर की धूम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
परिवर्तन जीवन का पर्याय है , उसे स्वीकारने में ही सुख है । प
Leena Anand
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
"इंसान हो इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...