Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

प्रेम खुमारी

पावन सदा पुनीत मृदुल सा जहान हो
सुरभित पवन,रंगीन प्रकृति रूपवान हो
रिश्ते प्रगाढ़, प्रेम खुमारी बनी रहे
कोई न हो गरीब सभी का मकान हो।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
183 Views
You may also like:
सी डी इस विपिन रावत
Satish Srijan
■ कल का पूर्वानुमान
*Author प्रणय प्रभात*
सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रविश कुमार हूँ मैं
Sandeep Albela
उसूल है।
Taj Mohammad
एक होशियार पति!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
💐💐आजा तेरी लिमिट बढ़ा दूँ💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
ईर्ष्या
Saraswati Bajpai
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
"तब घर की याद आती है"
Rakesh Bahanwal
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
दीपक
MSW Sunil SainiCENA
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
कितना अंदर से
Dr fauzia Naseem shad
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
✍️हुए बेखबर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रतीक्षित
Shiva Awasthi
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
दूरी रह ना सकी, उसकी नए आयामों के द्वारों से।
Manisha Manjari
पिंजरा तोड़
Shekhar Chandra Mitra
Loading...