Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

प्रेम खुमारी

पावन सदा पुनीत मृदुल सा जहान हो
सुरभित पवन,रंगीन प्रकृति रूपवान हो
रिश्ते प्रगाढ़, प्रेम खुमारी बनी रहे
कोई न हो गरीब सभी का मकान हो।

Language: Hindi
277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
सज़ल
सज़ल
Mahendra Narayan
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
*Author प्रणय प्रभात*
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
भव्य भू भारती
भव्य भू भारती
लक्ष्मी सिंह
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
उदासी से भरे हैं दिन, कटें करवट बदल रातें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
ख़िराज-ए-अक़ीदत
ख़िराज-ए-अक़ीदत
Shekhar Chandra Mitra
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
लैला अब नही थामती किसी वेरोजगार का हाथ
yuvraj gautam
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
Ravi Prakash
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
Loading...