Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 16, 2016 · 1 min read

प्रेम खुमारी

पावन सदा पुनीत मृदुल सा जहान हो
सुरभित पवन,रंगीन प्रकृति रूपवान हो
रिश्ते प्रगाढ़, प्रेम खुमारी बनी रहे
कोई न हो गरीब सभी का मकान हो।

147 Views
You may also like:
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बुआ आई
राजेश 'ललित'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता
Ram Krishan Rastogi
पहचान...
मनोज कर्ण
अनामिका के विचार
Anamika Singh
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
कशमकश
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...