Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

प्रेम को भला कौन समझ पाया है

प्रेम बेहद क्लिष्ट है
जिसने समझा
वो कर ना पाया
जिसने किया
उसको समझ ना आया ,

अब कृष्ण नहीं है
कोई भी इस जहां में
कि तुममें मैं मुझमें तुम
इस मंत्र को फूंक कर
ख़ूब प्रेम कमाया ,

ये प्रेम बहुत गूढ़ है
पोथियों से नहीं
अंतरात्मा से है आया
अच्छे अच्छों को नचा दिया इसने
प्रेम को भला कौन समझ पाया ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
"ताले चाबी सा रखो,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
Lohit Tamta
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
ଅତିଥି ର ବାସ୍ତବତା
Bidyadhar Mantry
*नई मुलाकात *
*नई मुलाकात *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*हमारे घर आईं देवी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*हमारे घर आईं देवी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
अपने होने का
अपने होने का
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)
*Author प्रणय प्रभात*
नमन तुमको है वीणापाणि
नमन तुमको है वीणापाणि
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
Neeraj Naveed
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
Loading...