Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2018 · 1 min read

प्रेम के रंग

“प्रीत के रंग”

प्रीत नैनों में बसा चाहत लुटाके देखना
बन हिना सूनी हथेली को रचाके देखना।

जानते हो पीर हरके कुछ सुकूँ मिल जाएगा
बन निवाला भूख दूजी तुम मिटाके देखना।

हर सफ़र आसान सा लगने लगेगा आपको
शूल राहों से हटा बगिया खिलाके देखना।

चाहतों में ज़ख़्म खाकर फूल से खिल जाओगे
दास्ताने ग़म कभी तुम गुनगुनाके देखना।

एक पल में लोग अपने से लगेंगे आपको
कुछ गुनाहों की सज़ा खुद को दिलाके देखना।

झूमते जन पाओगे बाहों में अपनी एक दिन
बैर सारे भूल जग अपना बनाके देखना।

मौत भी ‘रजनी’ तुम्हें सज़दा करेगी एक दिन
मजहबी मतभेद तजके उर लगाके देखना।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी।
संपादिका-साहित्य धरोहर

334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
आप जब खुद को
आप जब खुद को
Dr fauzia Naseem shad
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
बे फिकर होके मैं सो तो जाऊं
बे फिकर होके मैं सो तो जाऊं
Shashank Mishra
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जवान वो थी तो नादान हम भी नहीं थे,
जय लगन कुमार हैप्पी
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
"आम्रपाली"
Dr. Kishan tandon kranti
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2973.*पूर्णिका*
2973.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
दोस्त अब थकने लगे है
दोस्त अब थकने लगे है
पूर्वार्थ
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
कहां की बात, कहां चली गई,
कहां की बात, कहां चली गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज का युवा कैसा हो?
आज का युवा कैसा हो?
Rachana
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ताजमहल
ताजमहल
Satish Srijan
झुकना होगा
झुकना होगा
भरत कुमार सोलंकी
Loading...