Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं

प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का ही खोज में ,लंदन घुमआता हूं
प्रेम का दीवाना हूं, प्रेम नही ढुंढ पाता हूं
प्रेम का ही वास्ते,जग ठोकर भी खाता हूं।।

भारत मां के माटी मां , प्रेम मिलता है कुछ नेक
बगिया तो भरमार है,पर गुलाब खिला है एक।
जाति पंथ अलग है,पर हिंदुस्तानी ही पाता हू
भारत भूमि ममता की मुरत, प्रेम गीत ही गाता हूं

प्रेम का दीवाना हूं मैं,केवल प्रेम यहीं तो पाता हूं।।
भारत मां केत्याग तपस्या पर, अपना शीश झुकाता‌हूं।
प्रेम का पुजारी हूं मैं,,केवल प्रेम गीत ही गाता हूं
भारत मां के चरणों में,अपना शीश झुकाती हूं।।

Language: Hindi
1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"समरसता"
Dr. Kishan tandon kranti
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
Ravi Prakash
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
है ख्वाहिश गर तेरे दिल में,
Satish Srijan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
"फितरत"
Ekta chitrangini
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
3112.*पूर्णिका*
3112.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी सोच (गजल )
मेरी सोच (गजल )
umesh mehra
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
■ आत्मा झूठ नहीं बोलती ना! बस इसीलिए।।
■ आत्मा झूठ नहीं बोलती ना! बस इसीलिए।।
*Author प्रणय प्रभात*
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
अनुभूत सत्य .....
अनुभूत सत्य .....
विमला महरिया मौज
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मन
मन
Sûrëkhâ Rãthí
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
Loading...