Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2023 · 2 min read

प्रेम का अंधा उड़ान✍️✍️

प्रेम का अंधा उड़ान

🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵

अंतः मन की भावों से
आई एक मधुर आवाज ?

महा भागे !तेरे बिना मैं बेकार
जब से तू मन मंदिर में आई

पाने की चाह में तुम्हें
छोड़ दिया सब माई .भाई

दिल दिमाग अब तू ही छाई
तेरी प्रेम दीवानगी देख

बेचैन हुई घबराई पछताई
कैसी मुसीबत पाली मैं

सपनों की सेज सजाया
मंजिल सफर के कांटों से

स्वप्न नीड़ ख्वाबों की बगिया
कसर ना छोड़ी प्यार खातिर

तुझे अपना बनाने को
चलो चलें आजमाते अब

दामन चुनरी लहराने को
पता नहीं आगे क्या होगा

जाकर तेरे घर आंगन में
पर वहां बैठी वो बाजीगर

ना जाने क्या क्या ठानी है
बाजी किसकी पलट जाए

उनकी इस पर निगरानी है
ताने वाने से पग पग मुझे

रुलाने और सताने को
ना बाबा ना जाऊंगी कभी

तेरा घर बसाने को ?
वचन दे मुझे परिजन छोड़

अन्यत्र अपना घर बनाने को
अंधा प्रेमी हो बैचेन घबराया

लड़खड़ाया बोला अलग हो
जाओ मां मुझे संगिनी रखनी

वस इतनी छोटी सी बात
नाजों से तुझे पाला मैंने

एक कली फूलों की तरह
विलंब ना कर बेटा ला संगिनी

छोड़ी स्वर्ग सुंदर अपनी नीड़
तेरी सपनों की उड़ान भरने को

चला हर्षित पागल प्रेमी दिवाना
अपनी की हुई वादा सुनाने को

चलो संगिनी अपने घर चलो
अपना स्वप्न संसार बनाने को

जड़ा तमाचा बोली प्रेमिका
अक्ल के मोटे खोटे हो तू

अंधे अज्ञानी पर गामी हो
प्रेम दीवानी मस्तानी हूं

पर .अंधी नहीं बडी श्यानी हूं
तनिक जांच से तुझे पहचानी

हुआ नहीं अपनी मां का
मेरा क्या तू होएगा ???

जानी नहीं प्रेमी अंधे संग
जीवन तिमिर कपूत बसेरे में

चली मैं तो चली सपूत के उस
प्यार प्रकाश पुंज आशियानें में

अब तू काटो जिंदगी अपनी
खानावदोस मयखाने पैमाने में

हे ! जग के प्रेम दीवानों ?
सुलझा जीवन उलझाना नहीं

प्रेमी तो आनी जानी है
पर मॉ नहीं दोवारा मिलनी है

ममता प्यार करुणा दया अधिकार
अमर है मां का दूध कर्ज है तेरे पर

पूरा कर यहीं ऋणमुक्त हो जाना
इसे भूलकर भी नहीं भूलाना

💛🌻🌻💛🌻🌻💛🌻🌻💛

कविः –
तारकेश्वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
5 Likes · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
मेरा भारत जिंदाबाद
मेरा भारत जिंदाबाद
Satish Srijan
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
मय है मीना है साकी नहीं है।
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
*मिलता सोफे का बड़ा, उसको केवल पास (कुंडलिया)*
*मिलता सोफे का बड़ा, उसको केवल पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हम दो अंजाने
हम दो अंजाने
Kavita Chouhan
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
My City
My City
Aman Kumar Holy
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
फ़ासला गर
फ़ासला गर
Dr fauzia Naseem shad
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
"ऐतबार"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
👌
👌
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
मधुमास में बृंदावन
मधुमास में बृंदावन
Anamika Tiwari 'annpurna '
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...