Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

प्रेम ईश है

ढाईआखर प्रीति का पढ़लो बन जाओ तुम पंडित ज्ञानी|
बिना चाह के उतरेगी मन में उमंग बनकर शैतानी |
व्यापक रूप मुहब्बत का, जो समझ गए तो प्रेम ईश हैं|
जीजस औ अल्लाह इधर , तो उत वाहेगुरु, शंकर ध्यानी|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Language: Hindi
488 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
कुंडलिनी छंद
कुंडलिनी छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
"एक हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
परवाज़ की कोशिश
परवाज़ की कोशिश
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
■ ख़ास दिन, ख़ास दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
Ravi Prakash
*अविश्वसनीय*
*अविश्वसनीय*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2636.पूर्णिका
2636.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
लिखने से रह गये
लिखने से रह गये
Dr fauzia Naseem shad
Loading...