Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2022 · 3 min read

प्रेमानुभूति भाग-1 ‘प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’

प्रेम जगत का सार स्वरुप है । जिसने ये समझा वो कृष्ण हो गया और जो इसमें समाहित हुई वह श्री राधा हो गईं । गोपियों का प्रेम भी कितना निर्मल, निश्छल और पवित्रता से भरा रहा होगा कि जिसके वशीभूत होकर परात्पर परब्रह्म श्री कृष्ण आँसू बहाते हैं। कैसा दिव्य भाव रहा होगा कि वृन्दावन का माधुर्यभाव से भरा कान्हा ऐश्वार्याधिपति द्वारिकाधीश होने के बाद भी अपने वृन्दावन के प्रेम को भूल नहीं पाया। सच माने तो प्रेम एक ऐसा महीन धागा है जिसका कोई ओर-छोर नहीं है। जब ये दो लोगों के हृदयों को बाँधता है तो पता भी नहीं चलता लेकिन जब भी इस धागे की पकड़ जरा भी कमज़ोर होने लगती है तो ये युगल के लिए दर्द का कारण बन जाता है ।
प्रेम आज हुआ और कल भूल गये ऐसा नहीं होता ये तो मृत्युपर्यंत साथ रहता है चाहे प्रेमी पास हो या नहीं । प्रेमी साथ हो तो हमारे आँखों के सामने होता है लेकिन हमसे बिछड़ जाए तो वही प्रेम प्रकृति के कण-कण में अभिराजित हो प्रतिक्षण अपने प्रेमी को पुकारता है । प्रेम एक असाध्य रोग है जिसका कोई उपचार नहीं कबीर कहते हैं ‘विरह भुवंगम तन बसे मन्त्र न लागे कोई, प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’ प्रेमी से मिला विरह भी आनंद और उदासीनता से पूरित होता है। विरह का कोई उपचार नहीं होता कोई औषधि या मंत्र काम नहीं करता।
प्रेम में विरह भी अपने प्रेमी का दिया उपहार है जो प्रेम को और ज्यादा सशक्त और समृद्ध बना देता है । प्रेम में प्रेमी का कुछ नहीं होता सब कुछ दूसरे के लिए ही हो जाता है और तो और मन भी उनका और मन का विरह भी उनका । अपनी परछाई तक में वो ही दिखने लगता है … वैसे देखा जाए तो प्रेम में विरह होता ही नहीं है हाँ सांसारिक दृष्टि से देखने पर वह दूर लगता है लेकिन हृदय में सबसे करीब वही होता और उसी का चिंतन प्रतिक्षण होता रहता है।
प्रेम का निस्वार्थ रूप प्रेम का सबसे परिष्कृत रूप है। प्रेमी की निस्वार्थता एक ऐसा भाव है जिसके आगे ईश्वर भी स्वयं को बँधा हुआ पाते हैं। एक प्रसंग याद आता है माँ यसोदा श्री कृष्ण को बाँधने का प्रयास करती हैं घर में रखी एक रस्सी का टुकड़ा लाती हैं लेकिन वह रस्सी का टुकड़ा छोटा होता है तब माँ कृष्ण की शिकायत करने आई गोपियों से कहती हैं तुम भी अपने-अपने घर से रस्सी लाओ आज कान्हा को बाँध दूंगी फिर तुम आराम से अपने माखन को सँभालकर रख सकोगी। गोपियाँ अपने-अपने घर से रस्सियों के टुकड़े ले आती हैं लेकिन विस्मय तो तब होता है जब सभी रस्सियों के टुकड़े आपस में जोड़ देने के बाद भी छोटे पड़ जाते हैं।
तब एक गोपी श्रीराधा के पास जाकर उनसे एक रस्सी का छोटा सा टुकडा ले आती है जैसे ही श्री राधाजी की रस्सी का टुकड़ा उन रस्सियों के साथ जुड़ता है तो श्री कृष्ण बंध जाते हैं। श्रीराधा जी द्वारा दिया गया रस्सी का टुकडा सिर्फ एक रस्सी का टुकड़ा मात्र नहीं था बल्कि रस्सी के रूप में श्री कृष्ण के प्रति उनका अगाध प्रेम था और सच्चे प्रेम के आगे तो किसी की चालाकी नहीं चलती इसक्व आगे तो अबद्ध परमात्मा भी मुस्कराकर बद्ध हो जाता है।
पंकज कुमार,आर शर्मा ‘प्रखर’
लेखक एवं विचारक
कोटा, राज.

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 759 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रकृति
प्रकृति
Mangilal 713
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ज़रूरत के तकाज़ो पर
ज़रूरत के तकाज़ो पर
Dr fauzia Naseem shad
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Pratibha Pandey
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
अगर आप अपनी आवश्यकताओं को सीमित कर देते हैं,तो आप सम्पन्न है
Paras Nath Jha
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटा…..
बेटा…..
Dr. Mahesh Kumawat
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
Loading...