Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 3 min read

“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
=================================
प्रेमक दू शब्द सुनबाक ललक सबकेँ होइत छैक ! मन तृप्त भ’ जाइत छैक ! ढाढ़स बन्ह लगैत अछि ! नवीन उमंगक आभास होमय लगैत अछि ! किछु आर करबाक जिज्ञासा हृदय मे उभरय लगैत अछि ! जीवनक प्रत्येक पड़ाव पर हमर भीतर एकटा बालक नुकायल रहैत अछि ! मात्र बच्चे टा क नहिं अपितु प्रत्येक व्यक्ति केँ प्रोत्साहन ,प्रशंसा आ ढाढ़स क जरूरत पड़ैत छैक !बच्चा सेहो स्नेह आ प्रेमक दू शब्दक भूखल होइत अछि ! मधुर बोल सँ मनोबल बढि जाइत अछि ! विध्यार्थी केँ शिक्षक अपन मधुर बोलक फुहार सँ हुनकर मनोबल बढ़बैत छथिन ! अधिकारीगण अपन कनिष्ठ सहयोगी केँ मृदुलता क स्वर मे जखन किछु कहैत छथि त सहयोगी मे नवीन स्फूर्ति क प्राण संचालित होइत छनि ! समांतर( VARIABLE ) नेतृत्व क सेना सहो स्वीकार करैत अछि ! प्रत्येक डेग -डेग पर प्रेमक दू बोलक महत्व अद्भुत होइत अछि !

प्रेमक दू शब्द सुनबाक अभिलाषा ल केँ हमरलोकनि असंख्य मित्र सँ फेसबुक क पन्ना सँ जुड़ी गेल छी ! अधिकांश लोक केँ कियो व्यक्तिगत रूपेण जनैत नहिं छथि आ नहिं चिन्हबो करैत छथि ! कियाक त इ यंत्र समस्त सरहद क देबाल केँ तोडि सात समुद्र लाँघि मित्रता केँ एकटा नव स्वरूप प्रदान केने अछि ! जाति ,वर्ण आ लिंग रहित एकटा मित्रता क विशाल कड़ी बनि गेल अछि ! इ कड़ी क विशेषता बड्ड अपूर्व अछि !
की पैघ ,की छोट ,की नेता ,की अभिनेता आ की स्त्रीगण सब केँ सब हमरा लोकनि फेसबुक क मित्र कहबैत छी !

भाषा कखनो आरि नहिं बनल ! संस्कृति ,रीति -रिवाज ,वेष -भूषा ,भाषा आ खान – पान जाननाय आ सीखबा क अवसर प्राप्त भेल ! दूर रहितो पास आबि गेलहूँ !
वस्तुतः , हम अनगिनत आ अनजान लोकनि सँ जुडैत चलि गेलहूँ ! हमरा लागल एकटा विशाल सेना क निर्माण क लेने छी ! प्रतिस्पर्धा क दौड़ मे आगा निकलय लेल हम हजारो दोस्त बना लेलहूँ ! परंच इ नेतृत्व विहीन समूह क रफ्तार सदैव अलग रहल ! प्रत्यक्ष रूपेण इ जुड़ल देखाइत अछि मुदा आंतरिक परिपेक्ष मे एक दोसर सँ अनभिज्ञ रहैत अछि ! सब अपन-अपन धुन मे मातल छथि ! फेसबुक क रंगमंच पर लेखक ,कलाकार ,कवि ,प्रवक्ता ,कलाकार ,राजनीतिज्ञ ,नेता ,अभिनेता ,नौकरशाह ,संगीतकार ,पत्रकार ,शिक्षक ,गायक ,विद्यार्थी ,बच्चा ,बूढ़ आ स्त्री -पुरुख क साथ अछि मुदा भूलल -बिसरल कियो किनको सँ सनिध्य क संयोग भ जाइत छैनि अन्यथा सब अपन-अपन फराक रास्ता चुनि लेने छथि ! अधिकांश लोक एक दोसर केँ नज़रंदाज़ करितेह भेटताह !

व्हाट्सप्प मे सहो हजार क हजार लोक जुड़ल छथि मुदा बहुत कम लोक एक दोसर सँ गप्प करैत छथि ! मोबाईल सँ गप्प -सप करबा क लालसा विलीन भेल जा रहल अछि ! आर त आर हमसब एकर गुलाम बनैत चलि गेलहूँ ! आ अपना लोकनि सभ सँ दूरि होइत चलि गेलहूँ ! परिवार मे जखन लोकक विकेन्द्रीकरण भ रहल अछि तखन अंचिन्हार फेसबुक मित्र आ व्हाट्सप्प मित्र केँ ध्यान देत ? अपन उपलब्धि ,अपन उद्गार आ विचार केँ व्हाट्सअप पर प्रस्तुत केनाय निरर्थक लगैत अछि ! बारी -बारी सँ सभक व्हाट्सप्प पर आहाँ अपन उपलब्धि क उल्लेख करि केँ देखि लिय
जवाब ,प्रतिक्रिया आ प्रेमक दू गोट शब्द क बात त छोडि दिय , हुनकर प्रतिक्रिया मे हजारो तथाकथित व्हाट्सप्प मित्र बेफ़जुल क मांगल -चाँगल पोस्ट भेजि देताह !
लोक प्रेमक दू शब्द क भूखल होइत अछि मुदा हमरा लोकनि सही समय पर मौन भ जाइत छी ! एकटा दूटा संभवतः सक्रिय नहिं भ सकैत छथि परंतु हजार क हजार असक्रिय केना भ सकैत छथि ? इ यंत्र हमरलोकनि सँ जुडबा क संदेश दैत अछि ! संवाद क माध्यम सँ हमसब एक दोसर सँ जुडि केँ रहि सकैत छी ! कदाचित हमरा लोकनि एहि रंगमंच क कलाकार होइतो प्रयोगिक रूपेण साक्षात्कार नहिं भ सकैत छी ! प्रेमक दू शब्द सँ एक मात्र हम एक दोसर केँ जीत सकैत छी आ अपन मित्रता केँ अक्षुण बना केँ राखि सकैत छी !
=====================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
शिव पहाड़
दुमका
झारखण्ड
भारत
27.07.2023

Language: Maithili
109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृजन पथ पर
सृजन पथ पर
Dr. Meenakshi Sharma
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं
सत्य कुमार प्रेमी
सुबह की पहल तुमसे ही
सुबह की पहल तुमसे ही
Rachana Jha
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
इतना भी खुद में
इतना भी खुद में
Dr fauzia Naseem shad
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
बचपन
बचपन
संजय कुमार संजू
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
#लघु_दास्तान
#लघु_दास्तान
*प्रणय प्रभात*
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
मैं कहां हूं तुम कहां हो सब कहां हैं।
मैं कहां हूं तुम कहां हो सब कहां हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
शेखर सिंह
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
कवि रमेशराज
प्यार के मायने
प्यार के मायने
SHAMA PARVEEN
"मैं मजाक हूँ "
भरत कुमार सोलंकी
अतीत
अतीत
Bodhisatva kastooriya
Loading...