Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

// प्रीत में //

// प्रीत में //

खोल दे घूँघट तनिक अब बाँवरी।
देख लूँ मैं मुख सलोना सांँवरी।।
डूब जायें प्रेम के संगीत में।
नाचता है मन मयूरा प्रीत में।।
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
सुबह की आहटें
सुबह की आहटें
Ranjana Verma
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
"समझदार"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
पेड़ो की दुर्गति
पेड़ो की दुर्गति
मानक लाल मनु
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो खूबसूरत है
वो खूबसूरत है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
Dr fauzia Naseem shad
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
*सुभान शाह मियॉं की मजार का यात्रा वृत्तांत (दिनांक 9 मार्च
*सुभान शाह मियॉं की मजार का यात्रा वृत्तांत (दिनांक 9 मार्च
Ravi Prakash
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
सफलता
सफलता
Ankita Patel
नववर्ष संदेश
नववर्ष संदेश
Shyam Sundar Subramanian
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...