Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

प्रीत प्रेम की

प्रीत प्रेम की

प्यार का अर्थात समुद्र था पास तुम्हारे
पर तुम ना समझ पाए कभी
उसके हृदय द्रवित उद्गारों को
मधुभाषा मृदुल प्यार की

उसके आहरित नैनों के जादू को
प्यार की मीठी-मीठी गंध को
उसके मन की उत्साह प्रीत को
दिल में समेटे स्नेह की संपूर्णता को
तुम बहते रहे नदियों की धारा के साथ अथाह प्यार की गहराई तुम पहचान ना पाए
ना रसहीन हृदय तुम थे
ना पत्थर जैसा तुम्हारा दिल था
फिर भी न जाने
क्यों तुम उस प्रीत को समझ ना पाए
तुम तो थे मंजे हुए नाविक
हर लहर पर मचलते रहे
फिर भी न जाने क्यों
तुम लहरों के दिल के शोर को समझ ना पाए
तुम तो समझते थे हर वसंत का जादू
हर प्रेम प्रीत की गंध तुम पहचानते थे फिर भी न जाने क्यों
तुम उलझे रहे कांटो में
प्रेम पुष्प तेरे चारों तरफ मंडरा रहा था
हर भाषा से तुम परिचित थे
प्रेम अधरों से पहचानते थे तुम
फिर भी न जाने क्यूँ
जगत की झंझाओं में उलझे रहे
प्रेम की प्रीत की डोर तेरे द्वार पर थी
मगर तुम कनक्खियों से इसे झांकते रह

Language: Hindi
30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मजदूर हूँ साहेब
मजदूर हूँ साहेब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
■ अभाव, तनाव, चुनाव और हम
*प्रणय प्रभात*
??????...
??????...
शेखर सिंह
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" सुनिए "
Dr. Kishan tandon kranti
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पढ़ लेना मुझे तुम किताबों में..
पढ़ लेना मुझे तुम किताबों में..
Seema Garg
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
Shweta Soni
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
मुझको मालूम है तुमको क्यों है मुझसे मोहब्बत
gurudeenverma198
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
सावन और स्वार्थी शाकाहारी भक्त
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
*बड़े लोगों का रहता, रिश्वतों से मेल का जीवन (मुक्तक)*
Ravi Prakash
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
Loading...