Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

*प्रिया किस तर्क से*

लेखक डॉ अरूण कुमार शास्त्री
विषय प्रिया
शीर्षक नज़ाकत या उल्फत
विधा स्वच्छंद कविता

लजाती बलखाती इतराती शर्माती निकली हैं ।
आज रूप अनोखा दिखता है अरे ये तो मेरी प्रिया ही है।

श्रृंगार रस को समर्पित कुदरत के साथ जुड़ी , अलबेला अंदाज ।
खुशबू बिखेरती पल पल में अपनी जुल्फों की लतिकाओं को छेड़ती ।

हिरनी से नयन भरे भय संशय से धड़कते दिल से चाल मतवाली।
छेड़ा किसी ने तो देती गाली परहेज़ नहीं बिलकुल ये मेरी प्रिया निराली ।

अनुमान है आधा सच लेकिन समाधान नहीं।
पसीना बहा कर लिया गया निर्णय
पूर्णतया उचित भी नहीं ।

व्यक्तित्व विकास पर नारी शक्ति आज में व्यवस्थित कर्मशील कोमला अब नहीं ।
जल अग्नि वायु आकाश और धरा पर मात्र बसंत अब नहीं।

हैं फिर भी ये किसी न किसी की प्रेरणा हँस देती हर बात पर।
शिक्षा में पुरुष से आगे गुरु की क्षेणी में तो सर्वोच्च और प्रथम ।

नैसर्गिक रूप से लागू परिभाषा को करती स्थापित , अडिग स्वपरिभाषित हैं तो प्रिया।
तुम नारी शक्ति हो दिल पर कभी कभी बरसाती पत्थर हो , ये भिन्नात्मक आचरण कैसा कृपया।

कोमल हो कठोर नहीं व्यक्त हो मुखर नहीं विरोध करोगी कैसे सच कहना।
सत्य की स्थापना हेतु अनमाना व्यवहार लगता है अटपटा बोलो न।

प्रिया संबोधन सुनकर हृदय में अवधारणा होती स्थापित।
सौम्या अपराजिता निर- अहंकारी ममत्व से भरी एक अघोषित किलकारी ।

लजाती बलखाती इतराती शर्माती निकली हैं ।
आज रूप अनोखा दिखता है अरे ये तो मेरी प्रिया ही है।

®️©️

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
*कभी जिंदगी अच्छी लगती, कभी मरण वरदान है (गीत)*
Ravi Prakash
???
???
*प्रणय प्रभात*
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
"नाश के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डर
डर
Neeraj Agarwal
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
ब्राह्मण
ब्राह्मण
Sanjay ' शून्य'
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...