Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2021 · 1 min read

प्रियवर

अंतर मन में है बसा,प्रियवर तेरा चित्र।
प्रेम वासना से रहित ,पावन परम पवित्र।।

तेरी बाहों में सुबह,हो बाँहों में रात।
दो नयना करती रहे,अंतर मन की बात।।

सीने से लिपटी रहूँ,हो हाथों में हाथ।
धड़कन रुक जाये वही,जब हो प्रियवर साथ।।

गले लगाऊं जब तुझे,हो निर्मल बरसात।
मिले रूह जब रूह से,महक उठे जज्बात।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

2 Likes · 5 Comments · 500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
"आशा" के कवित्त"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“कलम”
“कलम”
Gaurav Sharma
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
प्राची  (कुंडलिया)*
प्राची (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्यों अब हम नए बन जाए?
क्यों अब हम नए बन जाए?
डॉ० रोहित कौशिक
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आखिर किसान हूँ
आखिर किसान हूँ
Dr.S.P. Gautam
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
■ कभी मत भूलना...
■ कभी मत भूलना...
*Author प्रणय प्रभात*
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
मन हमेशा इसी बात से परेशान रहा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...