Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2022 · 1 min read

प्रियतम

सीप नयन हैं अधखुले, श्याम वर्ण सम गात।
खोये स्वप्नों मेंं सजन, मधुर मधुर मुस्कात।
प्रिय की ऐसी प्रेरणा, आलिंगन की चाह।
हँस कर बोले प्रियतमा, मधुर मिलन की बात।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

Language: Hindi
1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
*शत-शत नमन प्रोफेसर ओमराज*
*शत-शत नमन प्रोफेसर ओमराज*
Ravi Prakash
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
शिकायत है हमें लेकिन शिकायत कर नहीं सकते।
Neelam Sharma
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
Dr Archana Gupta
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
हार हमने नहीं मानी है
हार हमने नहीं मानी है
संजय कुमार संजू
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
Mahendra Narayan
💐Prodigy Love-24💐
💐Prodigy Love-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ मजबूरी किस की...?
■ मजबूरी किस की...?
*Author प्रणय प्रभात*
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
Rituraj shivem verma
महादेव
महादेव
C.K. Soni
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
मकर राशि मे सूर्य का जाना
मकर राशि मे सूर्य का जाना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
ruby kumari
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
दिशाहीन
दिशाहीन
Shyam Sundar Subramanian
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।
बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...