Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से

प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से प्रश्न छोड़ने, तो आप सफल हैं। समाज एक प्रश्नपत्र है और सबलोग सवाल है, मर्यादित और अमर्यादित। निर्णय करें आगे बढ़ें……….सुप्रभात

1 Like · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
प्रदीप छंद
प्रदीप छंद
Seema Garg
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिनका अतीत नग्नता से भरपूर रहा हो, उन्हें वर्तमान की चादर सल
जिनका अतीत नग्नता से भरपूर रहा हो, उन्हें वर्तमान की चादर सल
*प्रणय प्रभात*
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
VINOD CHAUHAN
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
फितरत
फितरत
Ravi Prakash
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
“ आप अच्छे तो जग अच्छा ”
DrLakshman Jha Parimal
दीवानगी
दीवानगी
Shyam Sundar Subramanian
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुम मेरी
तुम मेरी
हिमांशु Kulshrestha
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
महफिले सजाए हुए है
महफिले सजाए हुए है
Harminder Kaur
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
Loading...