Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 2 min read

प्रयास

अपने अस्तित्व की पहचान का
प्रयास भी करते रहना।
केवल जीवित रहने के लिए शाद
न कभी जीवित रहना ।।
निस्संदेह इंसान के जीवन में प्रयास उतना ही महत्व रखता है जितनी कि सफलता प्रयास के अभाव में सफलता पाने की कल्पना करना भी व्यर्थ है और ये सफलता तभी प्राप्त होती है। जब हम अपने मन में दृढ़ निश्चय के साथ अपने लक्ष्य पर नज़र रखते हुए पूरी ईमानदारी के साथ निरन्तर प्रयास करते हैं, इसके साथ ही हमें यह बात भी स्मरण रखनी चाहिए कि सफलता केवल हमें थोड़े से प्रयास करने से प्राप्त नहीं होती बल्कि उसके लिए हमें कठोर परिश्रम भी करना पड़ता है और बहुत धैर्य के साथ उस परिश्रम के परिणाम का इन्तज़ार भी करना पड़ता है, धैर्य की आवश्यकता इसलिए होती है कि बहुत से लोग थोड़े से प्रयास के उपरांत ही अपना धैर्य खो बैठते है जिसके लिए वह कभी दूसरों पर दोषारोपण करतें हैं या फिर भाग्य को कोसते हैं, हालांकि ये सारे लक्षण कमजोर लोगों के होते हैं ऐसे लोग जिन्हें खुद पर विश्वास नहीं होता जबकि भूल जाते हैं कि असफलता प्रयासों में की गई कमी के कारण ही मिलती है अगर आप अपने मन में ठान ले तो क्या यह नामुमकिन होगा कि आपको सफलता न मिले, बस आवश्यकता तो केवल आपके उस प्रयास की है। जिसमें असफलता मिलने की कोई गुंजाइश ही न हो। यह बात सदैव स्मरण रखें कि आपकी मेहनत और आपकी कोशिशें (प्रयास) कभी व्यर्थ नहीं जाती, विलम्ब से सही लेकिन उसका सुखद परिणाम मिलता अवश्य है, लेकिन इसके साथ ही समय-समय पर अपनी योग्यताओं, क्षमताओं और अपने प्रयासों का निरीक्षण भी करते रहना जहां आपके लक्ष्य प्राप्ति को एक नई दिशा प्रदान करेगा वहीं आपको आपकी कमियों से भी परिचित करायेगा बस इस सबके साथ आपको अपनी सोच
सदैव सकारात्मक रखनी होगी फिर आपको आपकी सफलता प्राप्ति से कोई नहीं रोक सकता, बस एक प्रयास सच्चे मन से करके तो देखिए परिणाम आपके समक्ष होगा।
डॉ फौजिया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
7 Likes · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
सोचते हो ऐसा क्या तुम भी
gurudeenverma198
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
*मिठाई को भी विष समझो, अगर अपमान से आई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दुनियादारी....
दुनियादारी....
Abhijeet
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙅इस बार भी🙅
🙅इस बार भी🙅
*प्रणय प्रभात*
उदास हूं मैं आज...?
उदास हूं मैं आज...?
Sonit Parjapati
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
"रिश्तों का विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
Rituraj shivem verma
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
भ्रूण हत्या:अब याचना नहीं रण होगा....
पं अंजू पांडेय अश्रु
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
दूर भाग जाएगा ॲंधेरा
Paras Nath Jha
Loading...