Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2022 · 5 min read

प्रदीप छंद और विधाएं

#प्रदीप_छंद (एक चरण चौपाई +दोहे का विषम चरण )
16,13 पर यति कुल 29 मात्राएं. (यह मात्रिक‌ छंद है )

विशेष निवेदन ~चौपाई चरण का पदांत चौपाई विधान से ही करें ,
एवं दोहे के चरण का पदांत दोहा विधान से‌ ही करें ) चौपाई के चरण में 16 मात्रा गिनाकर पदांत. रगण ( 212 ) जगण 121 , तगण 221से‌ वर्जित है ।

यह‌ गेय छंद है , इससे –
मूल छंद‌‌ –
मुक्तक ,
गीतिका ,
गीत ,
पद काव्य
लांँगुरिया गीत
लिखे जा सकते हैं।

सोलह -तेरह मात्राओं का , न्यारा छंद प्रदीप है |
चार. चरण का प्यारा जानो , रखना बात समीप है |
विषम चरण है चौपाई सा , सम दोहा का है प्रथम ~
है‌‌ सुभाष लय इसमें पूरी, विज्ञ जनों की टीप है |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
विषय- मित्र (चार चरण के दो युग्म में )

मित्र सदा मिलता रहता है , भाई‌‌ खोजे यार में |
सुख दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में ||
करे‌ सामना आलोचक से , कमी‌‌ नहीं तकरार में |
सदा मित्र‌‌‌ को अच्छा मानें , अपने नेक विचार में ||

(अब यही युग्म मुक्तक में )

मित्र सदा मिलता रहता है , भाई‌‌ खोजे यार में |
सुख दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में |
करे‌ सामना आलोचक से , तर्कों के आधार पर –
सदा‌ मित्र को अच्छा‌ मानें , अपने नेक विचार में |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
पुन: दो युग्म

मित्र‌‌ इत्र सा जिसको मिलता , खुश जानो संसार में |
हाथ मानिए भाई‌ जैसा , अपने घर परिवार में ||
मिले सूचना यदि संकट की , मित्र कृष्ण अवतार‌ में |
आकर हल करने लगता है , लग‌ जाता उपचार में ||

(अब यही युग्म मुक्तक में )

मित्र‌‌ इत्र सा जिसको मिलता , खुश जानो संसार में |
हाथ मानिए भाई जैसा , अपने घर परिवार में |
मिले सूचना यदि संकट की , आए कृष्णा भेष में ~
बिना कहें हल करने लगता , लग जाता उपचार में |
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
अब यही युग्म अपदांत गीतिका में ….

मित्र सदा मिलता रहता है , भाई‌‌ खोजें यार में ,
सुख-दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में |

करे‌ सामना आलोचक से , तर्को के‌ आधार‌ पर ,
सदा मित्र को अच्छा मानें , अपने‌ नेक विचार में |

कभी मित्रता हो जाती है , मन ‌से उपजी बात में ,
कृष्ण- सुदामा सुनी कहानी , दादी‌ के सुखसार में |

सदा मित्र का साथ निभाओं ,‌ हितकारी आधार पर,
रखो बाँधकर भाई‌ जैसा , अपने दिल के‌ तार में |

आसमान से‌ ऊँची दुनिया , सदा‌ मित्र की‌ देखिए‌ |
मिलते ही मन खिल जाता है , सुख आता दीदार में ||

मित्र खबर पर दौड़ा आता , कृष्णा के परिवेश में |
भरी सभा में लाज बचाता , लग जाता उपचार में ||
===============================

अब इन्हीं‌ सभी युग्मों से गीत तैयार है….

मित्र सदा मिलता रहता है , भाई‌‌ खोजे यार में | (मुखड़ा)
सुख दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में || (टेक)

मित्र‌‌ इत्र सा जिसको मिलता , खुश जानो संसार में |(अंतरा)
हाथ मानिए भाई‌ जैसा , अपने घर परिवार में ||
मिले सूचना यदि संकट की , मित्र कृष्ण अवतार‌ में |
आकर हल करने लगता है , लग‌ जाता उपचार में ||

करे‌ सामना आलोचक से , कमी‌‌ नहीं तकरार में |(पूरक)
सुख दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में || (टेक)

कभी मित्रता हो जाती है , मन से‌ उपजे‌ प्यार में |(अंतरा)
कृष्ण- सुदामा सुनी कहानी , हमने‌ घर परिवार में |
सदा मित्र का साथ निभाओ , हितकारी आधार में |
रखो यार को‌ भाई‌ जैसा , अपने नेक विचार में ||

मिलते ही मन खिल जाता है , सुख आता दीदार में ||(पूरक)
सुख -दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में || (टेक)

आसमान से‌ ऊँची दुनिया , देखी‌ है संसार. में |(अंतरा)
भाई जैसा मित्र जहाँ है , दिल के जब दरवार में ||
सदा‌ मित्र‌ को रहते‌ देखा , अपने मन आधार‌ में |
एक जान मित्रों को‌ कहते‌, दुनिया की रस धार‌ में ||

सदा मित्र का साथ न छोड़ो, पड़ो न सुभाष खार‌ में |(पूरक)
सुख -दुख में वह‌ साथ निभाता, जुड़ा रहे परिवार में || (टेक)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
प्रदीप छंद आधारित पद काव्य

मतलब का संसार है |
कपटी करता मीठी बातें , खूब दिखाता प्यार है ||
हित अनहित को नहीं विचारे , करे पीठ पर वार है |
कूट- कूटकर भरी हुई है, चालाकी दमदार है ||
भाव भरे हैं जिसमें घातक , रखता सबसे खार है |
कहे ” सुभाषा ” बचकर रहना , वर्ना हर. पग हार है ||
~~~~~~~
प्रदीप छंदाधारित लांँगुरिया गीत {पांँच अंतरा का)
(आप सबसे निवेदन हो ही चुका है कि लांँगुरिया लोक भाषा गीतों को खड़ी हिंदी में लाने का प्रयास है , टेक और -उड़ान को गायक बीच में कहीं से भी तोड़कर अलाप- क्षेपक के साथ आगे लय भर सकता है |

टेक- लांँगुरिया दीवान री |
उड़ान ~ उसका करती मान री ~ 2

अंतरा~
सुनो सजनिया गोरी कहती , नहीं समझ नादान री |
लांँगुरिया अलबेला मेरा , उसे बहुत पहचान री ||

पूरक ~ लांँगुरिया का गान री |
उड़ान ~ उसका करती मान री ~2

अंतरा~
लांँगुरिया से जब-जब मेरी , होती न्यारी बात री |
प्रेम रंग से खिल जाती है , मेरी पूरी रात री ||

पूरक ~ बतलाती मैं ज्ञान री |
उड़ान ~ उसका करती मान री || ~2

अंतरा ~
लांँगुरिया से बनते रहते , मेरे प्यारे छंद री |
हँसती रहती लांँगुरिया ‌सँग , होंठों से मैं मंद री ||

पूरक~ लांँगुरिया है भान री |
उड़ान ~उसका करती मान री ~2

अंतरा
बातें उसकी मीठी लगती , खिल जाते है फूल री |
‌सुनकर शीतलता भी आती , मन. के झड़ते शूल री ||

पूरक ~ मधुरम उसका गान री |
उड़ान ~करती उसका मान री ~2

अंतरा
रहूँ देखती मैं लांँगुरिया , मन के बजते तार री |
सुनो सहेली हम दोनों में , अद्भुत रहता प्यार री ||

पूरक ~ लांँगुरिया ईमान री |
उड़ान ~करती उसका मान री ||~2

~~~~~~

प्रदीप छंदाधारित गीत

करें निवेदन मित्रों पहले , हिंदी छंद विधान की |
दोहा चौपाई को लेकर , लेखन के उत्थान की ||

दोहा जिनको लिखना आता , सही मापनी जानते |
जो चौपाई की गति यति भी , विधि सम्मत ही मानते ||
सभी छंद को वह लिख सकते ,यह हमको अनुमान है |
लिखते देखा श्रेष्ठ गणों को , जिनकी अब पहचान है ||

दोहा के सँग रक्षा करते , चौपाई सम्मान. की |
करें निवेदन मित्रों पहले , हिंदी छंद विधान की ||

जो अपनाकर अपवादों को , निजी सृजन को मोड़ते |
रगण जगण से यति चौपाई ,करके विधि को तोड़ते ||
सृजन भटकता देखा उनका , बनते खुद उपहास है |
मात् शारदे अनुकम्पा के , बनते कभी न खास. है ||

ध्यान कलन का जो रखते है , कलम वहाँ गुणगान की |
करें निवेदन मित्रों पहले, हिंदी छंद विधान की ||

सही तरह. से अठकल बनता , रहता छंद प्रवाह है |
दोहा लेखन सुगम बनाता , आगे दिखती राह. है ||
अठकल का चौपाई. में भी , योगदान बेजोड़ है |
हाथ जोड़कर कहे ‘सुभाषा’ ,समझा यही निचोड़ है ||

सदा सीख की चाहत रखता , पाना कृपा निधान की |
करें निवेदन मित्रों पहले , हिंदी छंद विधान की |
~~~~~~~~
प्रदीप छंद गीत
सोच जहाँ पर खो जाती है , रहे न मानव चाल. में |
मुफ्त पिलाकर आदी करते , मदिरालय. के जाल में ||

चार चरण का दोहा होता , दो मिलते है मुफ्त. में |
काम सौपते तुकमुल्ला का , कहते रहिए. रफ्त में ||
आदत गंदी डाल रहे है , देकर भाव उधार में |
चरण खोजता कवि घूमेगा ,सुबह-शाम अखवार में ||

मिलें देखने क्या- क्या नाटक,स्वांग दिखे सब ताल में |‌‌
मुफ्त. पिलाकर आदी करते , मदिरालय‌ के जाल. में ||

चरण. बाँटते चूरण जैसा , दानवीर सरदार. है |
क्रमशा: बाँट प्रशस्ति हँसते, ऐसे‌ भी दरबार है ||
नहीं सोचना कवि को पड़ता , मिले दान में भाव है |
काम कीजिए तुक मुल्ला का , अच्छा भला चुनाव है ||

वर्ण. शंकरी सृजन. बनाते‌ , लावारिश की ढाल में |
मुफ्त पिलाकर आदी करते , मदिरालय के जाल. में ||

नहीं सोचना. पड़ता कवि को , रच जाता साहित्य है |
चरण मिले खैरात जहाँ पर, नहीं वहाँ लालित्य है ||
वाह- वाह जी अब क्या कहना , अच्छी पैदावार ‌ है |
पटल बनाकर ठेके पर अब , कवि करते तैयार है ||

होटल जैसे मंच बने है , तड़का देकर. दाल. में |
मुफ्त पिलाकर आदी करते, मदिरालय के जाल. में ||

~~~~~~
सुभाष सिंघई
एम•ए• हिंदी‌ साहित्य , दर्शन शास्त्र जतारा(टीकमगढ)म०प्र०

============
आलेख- सरल सहज भाव शब्दों से छंद को समझाने का प्रयास किया है , वर्तनी व कहीं मात्रा दोष हो तो परिमार्जन करके ग्राह करें
सादर

Language: Hindi
Tag: लेख
551 Views
You may also like:
कुरुक्षेत्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रणय-बंध
Rashmi Sanjay
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
तितली
Shyam Sundar Subramanian
हर रास्ते की अपनी इक मंजिल होती है।
Taj Mohammad
"उज्जैन नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य"
Pravesh Shinde
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कृपा कर दो ईश्वर
Anamika Singh
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
राष्ट्रकवि
Shekhar Chandra Mitra
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
दया***
Prabhavari Jha
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
वक़्त तबदीलियां भी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
goutam shaw
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गीत-बेटी हूं हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
" राज संग दीपावली "
Dr Meenu Poonia
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
अब फकत तेरा सहारा न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बी एफ
Ashwani Kumar Jaiswal
सावधान हो जाओ, मुफ्त रेवड़ियां बांटने बालों
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दादा जी के टूटे सारे दॉंत, पोपला मुख है (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...