Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट

प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
अपना गलत चुनाव ही, देगा हमको चोट
देगा हमको चोट, ध्यान इसका सब रखना
अपनी आँखें खोल, ठीक से उसे परखना
कहे ‘अर्चना’ बात ,योग्य, सच्चा, मृदुभाषी
करे देश से प्रेम, चुने ऐसा प्रत्याशी

डॉ अर्चना गुप्ता
12.04.2024

1 Like · 134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
मैं जैसा हूँ लोग मुझे वैसा रहने नहीं देते
मैं जैसा हूँ लोग मुझे वैसा रहने नहीं देते
VINOD CHAUHAN
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
*छिपी रहती सरल चेहरों के, पीछे होशियारी है (हिंदी गजल)*
*छिपी रहती सरल चेहरों के, पीछे होशियारी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
किराये के मकानों में
किराये के मकानों में
करन ''केसरा''
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
— नारी न होती तो —
— नारी न होती तो —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आओ,
आओ,
हिमांशु Kulshrestha
अनोखे ही साज़ बजते है.!
अनोखे ही साज़ बजते है.!
शेखर सिंह
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
गुरु ही साक्षात ईश्वर
गुरु ही साक्षात ईश्वर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
हमको मिलते जवाब
हमको मिलते जवाब
Dr fauzia Naseem shad
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
Harminder Kaur
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
"जिन्दादिली"
Dr. Kishan tandon kranti
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
Manisha Manjari
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
Love
Love
Kanchan Khanna
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"किसान"
Slok maurya "umang"
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
Loading...