Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

प्रणय निवेदन

सन्ध्या हो गई हे प्रणये, कुछ क्षण सामीप्य बना रहने दो ।
कहने को बहुत कुछ शेष बचा,रोको न हमें अब कहने दो।
जिस प्रेम की पाती पढ- पढ कर , जिज्ञासा बढ़ती जाती थी,
प्रणये बस कुछ ही क्षण,उस कर कमल को कर मे रहने दो ।
“सावर्ण्य”

Language: Hindi
1 Like · 191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
भक्ति- निधि
भक्ति- निधि
Dr. Upasana Pandey
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
अपने सपनों के लिए
अपने सपनों के लिए
हिमांशु Kulshrestha
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Monday Morning!
Monday Morning!
R. H. SRIDEVI
संसार में सबसे
संसार में सबसे "सच्ची" वो दो औरतें हैं, जो टीव्ही पर ख़ुद क़ुब
*प्रणय प्रभात*
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
* जब लक्ष्य पर *
* जब लक्ष्य पर *
surenderpal vaidya
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
"देश भक्ति गीत"
Slok maurya "umang"
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
🌸*पगडंडी *🌸
🌸*पगडंडी *🌸
Mahima shukla
स्वदेशी
स्वदेशी
विजय कुमार अग्रवाल
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
*समारोह को पंखुड़ियॉं, बिखरी क्षणभर महकाती हैं (हिंदी गजल/ ग
Ravi Prakash
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
यह गलतफहमी कभी नहीं पालता कि,
Jogendar singh
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
ससुराल में साली का
ससुराल में साली का
Rituraj shivem verma
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...