Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

प्रकृति

चांद, एकांतता सिखा गया कभी,
ध्यानस्थ दरख़्तों से मिला ध्यान।

सागर, चुपके से मौन सिखा गया,
कभी चुप चितवन से मिला ज्ञान !!
-मोनिका

291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
बहादुर बेटियाँ
बहादुर बेटियाँ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
यह मेरी इच्छा है
यह मेरी इच्छा है
gurudeenverma198
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
इस तरह कुछ लोग हमसे
इस तरह कुछ लोग हमसे
Anis Shah
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
3548.💐 *पूर्णिका* 💐
3548.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
*कोई भी ना सुखी*
*कोई भी ना सुखी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यथार्थ
यथार्थ
Dr. Rajeev Jain
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
कोई किसी का कहां हुआ है
कोई किसी का कहां हुआ है
Dr fauzia Naseem shad
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
Loading...