Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

४) प्रकृति

शकुन्तला का शावक
दीखता नही है
कान्हा का धेनु
रम्भाती नही
वनराज बसेरे से
उजड़े बंजारे बने
गजराज पथिक
शहर के बने हैं ।
चन्दा काजल में
ओझल हुआ सा
राहु कालीख से
हारा हुआ है
भानु का शौर्य कतरता यूँ
काला केतु छाया हुआ है ।
तलैया में गोरा मुखड़ा
दीखता नही
श्रान्त राही को बट की
छाया नहीं
सौरभ-सुरभी
विषैली हुई है
कानन सौतेली
सुहाती नहीं है ।
आँगन की लतीका
पीली पड़ी
तुलसी की ख़ुशबू
फीकी पड़ी
नागफनी-दंत
थोथे हुए
गेंदा झड़ के
ठूंठा हुआ है ।
कहते हैं ज़माना
आगे बढ़ा है
प्रकृति विलखती
यूँ ही खड़ी है ।
डॉ नरेन्द्र कुमार तिवारी

समाधि
पीपल की समाधि,
योगी की समाधि
बेफ़िक्री में डूबा ,
तटस्थ , एकनिष्ठा समाधि !
निशा, नीरवता में खड़ा ,
पत्तियों का झांझर बजाता,
शीतल , सुखद , प्राण-वायु-
प्रसाद ,कण-कण में लुटाता !
विष पान करते ये,
शिव-शम्भु बने हैं
बॉंटें अमृत जगत मे,
विष अनवरत शोधाते !
धरा ऋणि ,और जल
इनपे न्योछावर ,वायु का
झालन,तोरण नीला गगन का,
और क्या ना , इनका किया है !
लगी रहे निरन्तर इनकी समाधि
धुनी अनवरत यूँ चलती रहे बस,
हिलाने की सोच है विध्वंसकारी
कामदेवी कथा किससे छुपी है !
जाएगी हिल धूरि जगत की,
और उलटेगी दिशा सृष्टि की ,
अनाथ,असहाय,जगत बनेगा,
आसन हिला तो इस योगवर का !

नरेन्द्र

Language: Hindi
501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
Ravi Prakash
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
बताती जा रही आंखें
बताती जा रही आंखें
surenderpal vaidya
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
"वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
"कितना कठिन प्रश्न है यह,
शेखर सिंह
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
*प्रणय प्रभात*
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*
*"अक्षय तृतीया"*
Shashi kala vyas
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"बदबू"
Dr. Kishan tandon kranti
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
Loading...