Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

प्रकृति

*मुक्तक*
वृक्ष नम्रता -त्याग सिखाता, नदियाँ देना सिखलाती।
द्युति किरणें दुख रूपी तम, को हर लेना सिखलाती।
बूंद बूंद को जोड मेघ सम, बरसाते जल को सबमें।
गतिशील प्रकृति कुदरत की भी , जीवन खेना सिखलाती।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
378 Views
You may also like:
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
पैसा
Sushil chauhan
पिता का पता
Abhishek Pandey Abhi
"उज्जैन नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य"
Pravesh Shinde
घूँघट की आड़
VINOD KUMAR CHAUHAN
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
ये किस धर्म के लोग है
gurudeenverma198
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी और चाहत
Anamika Singh
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पावस
लक्ष्मी सिंह
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
दिल किसी से अगर लगायेगा
Dr fauzia Naseem shad
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
बाल कविता : डॉक्टर
Ravi Prakash
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
पिता
कुमार अविनाश केसर
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️अंजाम और आगाज✍️
'अशांत' शेखर
प्राणदायी श्वास हो तुम।
Neelam Sharma
दुल्हों का बाजार
मृत्युंजय कुमार
ज़ुल्म के ख़िलाफ़
Shekhar Chandra Mitra
Loading...