Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

प्रकृति के स्वरूप

वायु ,
अनल ,
भूमि,
बहुतर,
गगन,
बादल – दल वर्षा कारक,
जीवित को,
मिलता ,
जीवन का अमृत जल,
सब प्रकृति के रूप हैं।।

इन्ही से ,
इन्हीं तक ही सीमित है,
जीवन मानव का।
यहीं प्रारंभ ,
मध्य जीवन,
अन्त सभी का।।

ये ही प्राण – श्वसन्,
पाक – दहन ,
वास – निवास और
चलती काया के बल हैं,
सब प्रकृति के रूप हैं।।

वायु का प्रबल वेग,
बनता है प्रकृतिवश,
झंझावात ,
भय – जंजाल,
जकड़ता है अन्तस् को,
जो,
सब प्रकृति के रूप हैं।।

दावानल ,
भस्मसात् करता है,
समस्त,
वन – वन्य को,
विनाशरूपी उसकी,
है जिह्वा – आस्वाद,
त्रास, त्राहि भाव ,
सब प्रकृति के रूप हैं।।

भूमि में कम्पन से ,
भर्भरा जाती हैं,
इमारते,
आलीशान ,
उनका भी,
मिट जाता है,
नामोनिशान,
जिससे,
सब प्रकृति के रूप हैं।।

जल – साक्षात् जीवन ,
साक्षात् प्रलय,
नमी,
ऊर्जा भंडार,
असीमित ,
अगणित जीवन का ,
आधार,
पुरातन से चिर काल तलक,
सब प्रकृति के रूप हैं।

पर,
ज्वार – भाटा,
सुनामी वेग,
मुसलाधार वर्षा ,
डूबते खेत,
फसल कर विफल ,
जल होकर भी जलते कल,
सब प्रकृति के बल,
उसके स्वरूप हैं।।

हर्ष – हास,
आनंदित,
रति – सन्तुष्ट,
विलास – रास,
उत्साह – व्यग्र,
त्वरित प्रयास।।

करुणा – शोक,
बिछोह,
भय – सशोक,
निराशा उपभोग,
रौद्र – दृष्टिक्षेप,
उग्रता घोर।।

बीभत्स – लेप,
जुगुप्सित दिशा,
शान्त – मौन,
मनन के,
नव रस भी सब प्रकृति के रूप हैं।।
##समाप्त

1 Like · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उलझी हुई जुल्फों में ही कितने उलझ गए।
उलझी हुई जुल्फों में ही कितने उलझ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़ी तक़लीफ़ होती है
बड़ी तक़लीफ़ होती है
Davina Amar Thakral
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
Dr MusafiR BaithA
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
59...
59...
sushil yadav
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
गांधीवादी (व्यंग्य कविता)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
गुमनाम 'बाबा'
कैसे कहे
कैसे कहे
Dr. Mahesh Kumawat
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
जिन्दगी के कुछ लम्हें अनमोल बन जाते हैं,
शेखर सिंह
Love and truth never hide...
Love and truth never hide...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
Loading...