Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

::: प्यासी निगाहें :::

241. “प्यासी निगाहें”
(वीरवार, 01 नवम्बर 2007)
——————————–

मंद चिरागों का ये आलम
झुलसे हैं परवाने क्यों।
प्यासी है क्यूं फिर से निगाहें
छलके नहीं पैमाने क्यों।।
बादल बड़ा है पानी जरा-सा |
सूख हैं जंगल मरु हरा-सा।।
जाने कैसी है ये हकीकत।
रूठा -रूठा लगता है खत।।
खुद को ही पहचाने ना
दुनिया में अंजाने क्यों ।
प्यासी है क्यूं फिर से निगाहें
छलके नहीं पैमाने क्यों।।
उजला सूरज छिप-छिप जाए।
मन तरसे अकुलाए घबराए ।।
चंद्रमा का शीतल प्रकाश ।
तनिक भी अब आए ना रास ।।
हवा के ठण्डे झोंके से
सहम गए आशियाने क्यों।
प्यासी है क्यूं फिर से निगाहें
छलकें नहीं पैमाने क्यों ।।

-सुनील सैनी “सीना”
राम नगर, रोहतक रोड़, जीन्द (हरियाणा)-१२६१०२.

1 Like · 343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दो पहलू"
Yogendra Chaturwedi
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
विदाई
विदाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
लोगो समझना चाहिए
लोगो समझना चाहिए
शेखर सिंह
గురువు కు వందనం.
గురువు కు వందనం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कण कण में है श्रीराम
कण कण में है श्रीराम
Santosh kumar Miri
summer as festival*
summer as festival*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
"नग्नता, सुंदरता नहीं कुरूपता है ll
Rituraj shivem verma
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"लकीरों के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
मुफ़लिसी एक बद्दुआ
Dr fauzia Naseem shad
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
■ ऋणम कृत्वा घृतं पिवेत।।
■ ऋणम कृत्वा घृतं पिवेत।।
*Author प्रणय प्रभात*
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
चाँद पूछेगा तो  जवाब  क्या  देंगे ।
चाँद पूछेगा तो जवाब क्या देंगे ।
sushil sarna
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
Loading...