Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

प्यासा के कुंडलियां (झूठा)

झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
रहते हैं वो साथ में, अंदर अंदर खाय।।।
अंदर अंदर खाय, निराली बातें उसकी।
हर बातों में उसे, छूटे है प्यारी मुस्की।।
हो प्यासा गंभीर, रहे वो बहुत अनूठा ।
साबित करना उसे, बहुत मुश्किल है झूठा ।।
-“प्यासा”

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
23/62.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/62.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
*Author प्रणय प्रभात*
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
*शुगर लेकिन दुखदाई (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Tum meri kalam ka lekh nahi ,
Sakshi Tripathi
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
Loading...